April 24, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

उत्तराखंड ये वीरांगनाएं होंगी  आज तीलू रौतेली सम्मान 2022 से सम्मानित

उत्तराखंड ये वीरांगनाएं होंगी  आज तीलू रौतेली सम्मान 2022 से सम्मानित

उत्तराखंड की 12 महिलाओं और किशोरियों को आज तीलू रौतेली पुरस्कार मिलेगा। साथ ही 35 महिलाओं को राज्य स्तरीय आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सम्मान दिया जाएगा। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) सर्वेचौक स्थित सभागार में इन्हें पुरस्कृत करेंगे।

 

 

प्रदेश में अब हर साल अधिकतम 13 महिलाओं को तीलू रौतेली पुरस्कार मिलेगा। हर जिले से एक महिला को इसके लिए चयनित किया जाएगा। वहीं 35 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया जाएगा। महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग के सचिव हरि चंद सेमवाल के मुताबिक विभाग की ओर से आदेश में बदलाव कर पुरस्कारों की अधिकतम संख्या तय की गई है।

पिछले साल भारतीय हॉकी खिलाड़ी वंदना सहित 22 महिलाओं को इस पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया था जबकि इससे पहले 21 महिलाओं को इस पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया। विभाग के सचिव के मुताबिक अब हर जिले से एक महिला या किशोरी को तीलू रौतेली पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाएगा। वहीं राज्य स्तरीय आंगनबाड़ी पुरस्कार के लिए अधिकतम 35 कार्यकर्ताओं का चयन किया जाएगा। सचिव के मुताबिक विभाग में 105 परियोजनाएं हैं। हर साल 35 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पुरस्कृत किया जाएगा। इस तरह तीन साल में सभी परियोजनाओं से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पुरस्कृत होंगी। जिस आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को इस साल पुरस्कृत किया जाएगा, उसे अगले साल पुरस्कृत नहीं किया जाएगा।
सीएम की घोषणा के बाद भी नहीं बढ़ी पुरस्कार की राशि
पिछले साल मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पुरस्कार राशि 31 हजार रुपये से बढ़ाकर 51 हजार रुपये किए जाने की घोषणा की थी, लेकिन इस बार पुरस्कार राशि 31 हजार ही है। सचिव हरि चंद्र सेमवाल के मुताबिक सीएम घोषणा सेल व वित्त से औपचारिक आदेश जारी न होने से पुरस्कार की धनराशि इस बार भी पूर्ववत रहेगी।

वर्ष 2006 से दिया जा रहा है पुरस्कार
प्रदेश सरकार ने तीलू रौतेली के नाम पर वर्ष 2006 से महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं और किशोरियों के लिए तीलू रौतेली पुरस्कार की शुरूआत की थी। उत्तराखंड की वीरांगना तीलू रौतेली की जयंती पर हर साल दिए जाने वाले इस पुरस्कार के लिए इस बार से पुरस्कारों की संख्या सीमित कर दी गई है।

समारोह में शामिल नहीं हो पाएंगे सीएम
आज सर्वे चौक स्थित आईआरडीटी सभागार में तीलू रौतेली एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पुरस्कार समारोह में सीएम पुष्कर सिंह धामी शामिल नहीं हो पाएंगे। वे नीति आयोग की बैठक में शामिल होने दिल्ली गए हैं। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह और मंत्री रेखा आर्य विशिष्ट अतिथि होंगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता राजपुर विधायक खजानदास करेंगे।

 

उत्तराखंड की 12 महिलाओं और किशोरियों को आज तीलू रौतेली पुरस्कार मिलेगा। साथ ही 35 महिलाओं को राज्य स्तरीय आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सम्मान दिया जाएगा। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) सर्वेचौक स्थित सभागार में इन्हें पुरस्कृत करेंगे। चयनित महिलाओं की सूची रविवार को महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग ने घोषित कर दी।

तीलू रौतेली पुरस्कार सम्मान पाने वाली वीरांगनाएं

विभाग की ओर से राज्य स्तरीय चयन समिति की सिफारिश पर राज्य स्त्री शक्ति तीलू रौतेली पुरस्कार के लिए अल्मोड़ा जिले से साहित्यिक क्षेत्र में कार्य के लिए डॉ. शशि जोशी, खेल के क्षेत्र में कार्य के लिए बागेश्ववर जिले से दीपा आर्य, चमोली जिले से सामाजिक क्षेत्र में कार्य के लिए मीना तिवाड़ी, बालिका शिक्षा एवं सामाजिक कार्य के लिए चंपावत जिले से मंजू बाला, पत्रकारिता के क्षेत्र में देहरादून जिले से नलिनी गोसाई, खेल के क्षेत्र में हरिद्वार जिले से प्रियंका प्रजापति, शिक्षा एवं स्वच्छता के क्षेत्र में नैनीताल जिले से विद्या मर्तोलिया, अदम्य साहसिक कार्य के लिए पौड़ी से सावित्री देवी, महिला स्वयं सहायता के क्षेत्र में कार्य के लिए पिथौरागढ़ जिले से दुर्गा खड़ायत, आजीविका संवर्द्धन के क्षेत्र में कार्य के लिए रुद्रप्रयाग जिले से गीता रावत, सामाजिक क्षेत्र में कार्य के लिए उत्तरकाशी जिले से लता नौटियाल एवं खेल के क्षेत्र में कार्य के लिए ऊधमसिंहनगर जिले से प्रेमा नौटियाल को चयनित किया गया है। टिहरी जिले से पुरस्कार के लिए कोई भी नाम नहीं है। बताया गया है कि जिला स्तरीय समिति की ओर से एकल आवेदन को रद्द करने के कारण पुरस्कार के लिए किसी पात्र अभ्यर्थी की सिफारिश नहीं की गई है।

यह वीरांगनाएं होंगी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पुरस्कार से सम्मानित

अल्मोड़ा से सुनीता कोहली, कुसुम बिष्ट, जानकी व कमला नेगी, बागेश्वर जिले से हेमा सती, चमोली जिले से भागा देवी, शोभा व अभिलाषा देवी, चंपावत जिले से अनिता रावत, देहरादून जिले से अर्चना राणा, सरोज सुयाल व किर्तना शर्मा, हरिद्वार से सीमा रानी, कमलेश धीमान, रचना व उमेश कुमारी, नैनीताल से ज्योति रावत, अंजू सागर व गीता नयाल, पौड़ी से अनिता देवी, आशा देवी,मीना देवी, हेमलता बिष्ट व गिन्नी डंगवाल, पिथौरागढ़ से दीपा पांडेय व ज्योति टम्टा, रुद्रप्रयाग से रंजना अवस्थी, टिहरी से मंगला थपलियाल, उमा भट्ट व सविता सेमवाल, ऊधमसिंह नगर से स्नेहलता मलिक, रचना रानी व मीरा देवी, उत्तरकाशी से सुमित्रा और लक्ष्मी नौटियाल।

 

तीलू रौतेली और आंगनबाड़ी पुरस्कार के लिए चयनित महिलाओं ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य किया है। इस पुरस्कार के चयन के लिए सभी को शुभकामनाएं। इससे अन्य महिलाओं को भी प्रेरणा मिलेगी।
-रेखा आर्य, मंत्री महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास
तीलू रौतेली (जन्म तिलोत्तमा देवी), गढ़वाल, उत्तराखण्ड की एक ऐसी वीरांगना जो केवल 15 वर्ष की उम्र में रणभूमि में कूद पड़ी थी और सात साल तक जिसने अपने दुश्मन राजाओं को कड़ी चुनौती दी थी। 22 वर्ष की आयु में सात युद्ध लड़ने वाली तीलू रौतेली एक वीरांगना है।तीलू रौतेली उर्फ तिलोत्‍तमा देवी भारत की रानी लक्ष्‍मीबाई, चांद बीबी, झलकारी बाई, बेगम हजरत महल के समान ही देश विदेश में ख्‍याति प्राप्‍त हैं।

इसी बात को ध्‍यान में रखते हुए उत्‍तराखंड सरकार ने तीलू देवी के नाम पर एक योजना शुरू की है, जिसका नाम तीलू रौतेली पेंशन योजना है। यह योजना उन महिलाओं को समर्पित है, जो कृषि कार्य करते हुए विकलांग हो चुकी हैं। इस योजना का लाभ उत्‍तराखंड राज्‍य की बहुत सी महिलायें उठा रहीं हैं।

वीरबाला तीलू रौतेली के नाम पर वर्ष 2006 से प्रारंभ किए गए ‘
तीलू रौतेली की जयंती

तीलू रौतेली की जयंती हर साल 8 अगस्त को मनाई जाती है। इस दिन उत्तराखंड के लोग पेड लगाते है और साथ ही सांस्कृतिक उत्सव भी आयोजित किये जाते है। 8 अगस्त 1661 को तीलू रौतेली का जन्म हुआ था इसी उपलक्ष्य में राज्य सरकार इस दिन की याद में तीलू रौतेली की जयंती मानती है।

 

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM