June 16, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

अक्टूबर 2022 को महात्मा खुशीराम पुस्तकालय वाचनालय की ओर से अपना 101 वां दिवस मनाया गया

 4 अक्टूबर 2022 को महात्मा खुशीराम पुस्तकालय वाचनालय की ओर से अपना 101 वां दिवस मनाया गया । आज के अवसर पर जहां शहर के गणमान्य व्यक्ति पुस्तकालय भवन में परिसर में मौजूद थे वहीं महात्मा गांधी को भी याद करते हुए उनका वैष्णव जन और मां सरस्वती की वंदना से कार्यक्रम को प्रारंभ किया गया इसके उपरांत मारकंडे बहनों की ओर से एक यहां पर सितार और उसके साथ वाहन की जुगलबंदी भी प्रस्तुत की गई कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री आलोक लाल जो कि पूर्व डीजीपी पुलिस हैं वहां पर मौजूद रहे और इसके साथ ही जाने माने चित्रकार ज्ञानेद्र जी मौजूद रहे। इस दौरान देहरादून के मेयर श्री सुनील उनियाल गामा जी भी मौजूद रहे। ट्रस्ट की ओर से 101 वें स्थापना दिवस पर उन्हें शताब्दी सम्मान से सम्मानित किया गया। इस दौरान उनको मुख्य अतिथि द्वारा और पर्यावरणविद जगदीश बावला इसके साथ ही ज्ञानेद्र कुमार जी जो कि एक जाने-माने चित्रकार कलाकार हैं और संस्था के अध्यक्ष श्री विजय बंसल द्वारा सुनील उनियाल गामा जी को शॉल पहनाकर प्रशस्ति पत्र देकर और साथ में प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। शताब्दी सम्मान के दौरान उनके लिए एक सम्मान पत्र तैयार किया गया था इस सम्मान पत्र को डीएवी पीजी कॉलेज के रीडर श्री लक्ष्मीकांत त्रिपाठी विमल द्वारा तैयार किया गया था और उस सम्मान पत्र को श्री लक्ष्मीकांत त्रिपाठी विमल जी द्वारा हीं पढ़कर सुनाया गया जिसकी सभी लोगों ने बहुत प्रशंसा की। गामा जी ने कहा कि यह सम्मान पत्र वाकई अपने आप में अद्भुत है। खुद गामा जी ने उसको स्वीकार करते हुए कहा कि यह मेरे लिए तो गुरु जी का आशीर्वाद है। उन्होंने कहा कि यूं तो मेरा बहुत सम्मान हुआ है लेकिन इस तरह का सम्मान पत्र में पहली बार प्राप्त कर रहा हूं। और इस बात से मैं अपने आप में बहुत गर्व का अनुभव कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि गुरु जी के शब्दों के माध्यम से उनके शब्दों के माध्यम से जो सम्मान मुझे सम्मान पत्र के रूप मे प्राप्त हुआ है उसको पाकर मैं अभिभूत हूं। आज के कार्यक्रम में मारकंडेय विद्यालय की प्रधानाचार्य निशा मार्कण्डेय भी मौजूद रहीं और उन्हीं के छात्रों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया था कार्यक्रम का संचालन जाने-माने पर्यावरणविद् जगदीश बाबला जी द्वारा किया गया जो कि पुस्तकालय के ट्रस्टी भी है। इस कार्यक्रम में राजेंद्र रतूड़ी जो कि पूर्व डायरेक्टर एजुकेशन रहे हैं और कवि भी हैं वह मौजूद रहे उसके साथ यहां पर राकेश अग्रवाल जो कि रोटरी के पूर्व प्रधान भी रह चुके हैं वो मौजूद रहे। अनिल अग्रवाल जी यहां मौजूद रहे हैं जो की जाने माने उद्योगपति हैं और इसी के साथ हमारे बीच में यहां बहुत सारे शहर के जाने-माने लोग यहां मौजूद थे और उससे पहले प्रातः काल 9:30 से सबसे पहले हवन किया गया और आज मैठानी जी पुजारी जो कि पिछले 25 वर्षों से यहां पर नियमित हर वर्ष स्थापना वाले दिन पूजा करते हैं हवन करते और वह भी मौजूद थे और उन्होंने विधिवत पूजा कराई। और साथ ही 101 वर्ष के स्थापना दिवस पर उनका भी सम्मान किया गया इसी के साथ एक दो दिन पूर्व 1 अक्टूबर और 2 अक्टूबर को एक चित्रकला की कार्यशाला यहां पर आयोजित की गई थी उस चित्रकला में विभिन्न विद्यालयों के छात्रों ने प्रतिभाग किया था और बहुत सुंदर सुंदर चित्रकला बनाई थी यहां पर आए हुए गणमान्य व्यक्तियों ने उसकी बहुत प्रशंसा की और कहा कि आगे भी इसी तरह की एग्जीबिशन में प्रतिभाग करने के इच्छुक रहेंगे छात्र और छात्राएं। छात्र छात्राओं द्वारा बनाई गई चित्र कला को 5 दिन के लिए प्रेक्षागृह में आम जनता के लिए जनमानस के लिए उस को दर्शाने के लिए रखा गया है। एग्जीबिशन के माध्यम से सभी लोग उसका नित्य सुबह 10:00 बजे से लेकर के और साईं 5:00 बजे तक 6:00 बजे तक उसका अवलोकन कर सकते हैं उसमें दो-तीन पेंटिंग इतनी सुंदर थी के लोगों ने उनको खरीदने के लिए भी अपना प्रस्ताव किया कुछ एक चित्रकला 15000 20000 में खरीदी गई है खरीदने वालों से यह कहा गया है कि यह आपके नाम से बुक हो गई है और यह आपको दे दी जाएगी लेकिन जब तक 5 दिन का समय है तब तक यह आम जनमानस के अवलोकन हेतु प्रेक्षा ग्रह में रखी गई है। इस कार्यक्रम में उसके अतिरिक्त शहर के लोग और क्यों हमारे ट्रस्टी हैं वह भी यहां पर से मौजूद रहे Mrs आनंद से लेकर women एसोसिएशन ककी अध्यक्ष और उनके सदस्य भी यहां पर उसे मौजूद है। और इसी के साथ जय कार्यक्रम करीब लगभग दो-तीन घंटे के उपरांत संपन्न हुआ । शहर के मेयर सुनील उनियाल गामा ने इस कार्यक्रम की भूरी भूरी प्रशंसा की और कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम शहर में होते रहने चाहिए। उन्होंने कहा कि इस पुस्तकालय के लिए इसके भवन के लिए यदि मैं कुछ भी अच्छा कर पाऊंगा तो मुझे लगेगा कि मैं कुछ अच्छा कर पाया। गामा ने कहा कि मैं भविष्य में इस तरह की के कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिए नगर निगम हमेशा तत्पर रहेगा। इस कार्यक्रम में राहुल एस मारकंडे जो की प्रशासनिक अकादमी मसूरी में संगीत शिक्षक है और आईएस के लोगों को प्रशिक्षण के दौरान उनको संगीत की शिक्षा देते हैं वह मौजूद रहेगी भैरवी मार्कंडेय मौजूद रहीं जिन्होंने कि अपना सितार वादन प्रस्तुत किया। स्वर्णिमा मारकंडे मौजूद रहीं जिन्होंने वायलिन का वादन प्रस्तुत किया। पंकज मौजूद रहे जिन्होंने तबले पर संगत की। और उसके साथ ही यहां पर सची और अंशिका ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। इस प्रकार इस कार्यक्रम का सफल समापन संपूर्ण किया गया।

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM