April 22, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

एंटीना का दौर फिर लौटेगा सेटबॉक्स के बिना चलेंगे टीवी चैनल फ्री में

एंटीना का दौर फिर लौटेगा सेटबॉक्स के बिना चलेंगे टीवी चैनल फ्री में

देश में एक बार फिर से टीवी देखने के लिए एंटीना का दौर लौटने वाला है। जी हां, देश में टीवी दर्शक आने वाले दिनों में टीवी चैनल देखने के लिए एंटीना का इस्तेमाल करेंगे। सबसे खास बात यह है कि लोगों को टीवी देखने के लिए सेट टॉप बॉक्स लगाने के झंझट से छुटकारा मिल जाएगा क्योंकि सेट टॉप बॉक्स के बिना टेलीविजन में इन बिल्ट सैटेलाइट ट्यूनर लगा दिया जाएगा। इसकी मदद से लोग 200 से ज्यादा चैनल देख सकेंगे। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि जनता को इसे उपलब्ध कराने की कोशिश जारी हैं।

फ्री डिश पर सामान्य मनोरंजन चैनलों का हुआ विस्तार
गौरतलब हो, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने यह भी कहा कि फ्री डिश पर सामान्य मनोरंजन चैनलों का काफी विस्तार हुआ है, जिससे करोड़ों दर्शकों को आकर्षित करने में मदद मिली है। बताया जा रहा है कि इस सुविधा की शुरुआत के बाद दर्शकों के पास बिना सेट-टॉप बॉक्स या फ्री डिश के 200 से ज्यादा चैनल पहुंच सकेंगे।

फैसला होना अभी बाकी
इस संबंध में आगे जोड़ते हुए केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि ‘मैंने अपने विभाग में एक नई शुरुआत की है। अगर आपके टेलीविजन में बिल्ट-इन सैटेलाइट ट्यूनर है, तो अलग सेट-टॉप बॉक्स रखने की जरूरत नहीं होगी। रिमोट के क्लिक पर 200 से अधिक चैनलों तक पहुंच हो सकती है। ” हालांकि उन्होंने साफ किया कि इस मामले में अभी सरकार की ओर से फैसला होना बाकी है।

छत पर लगाना होगा एंटीना
ज्ञात हो, इससे पहले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव को लिख चुके हैं कि वे टेलीविजन निर्माताओं को इंडस्ट्रियल स्टैंडर्ड ब्यूरो द्वारा निर्मित सैटेलाइट ट्यूनर के लिए जारी मानकों को अपनाने के निर्देश जारी करें।

‘बिल्ट-इन सैटेलाइट ट्यूनर’ से सब होगा संभव
दरअसल, बिल्ट-इन सैटेलाइट ट्यूनर के साथ टेलीविजन सेट किसी उपयुक्त स्थान जैसे किसी भवन की छत या साइड की दीवार पर एक छोटा एंटीना लगाकर फ्री-टू-एयर टेलीविजन और रेडियो चैनलों के प्रसारण को सक्षम बनाएगा। वर्तमान में, टेलीविजन दर्शकों को विभिन्न पेड और फ्री चैनल देखने के लिए एक सेट-टॉप बॉक्स खरीदना पड़ता है।

डीडी फ्री-डिश सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म
बता दें कि दूरदर्शन फ्री डिश वाले घर की संख्या 6 वर्षों में दोगुनी से ज्यादा हो चुकी है। उल्लेखनीय है कि टेलीविजन के माध्यम से पूरे भारत में आम लोगों तक सार्वजनिक और राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच बनाने में डीडी फ्री-डिश प्लेटफॉर्म से बहुत अधिक बढ़ावा मिला है। सार्वजनिक सेवा के कार्यादेश के अनुरूप, प्रसार भारती की डीडी फ्री-डिश, महामारी के दौरान लोगों की सेवा करने के लिए अपने प्लेटफार्म के माध्यम से बड़े पैमाने पर सार्वजनिक पहुंच और प्रसार को सक्षम बना रही थी। जब पारंपरिक शिक्षा प्रणाली महामारी के कारण कई तरह की समस्याओं का सामना कर रही थी, तो इसके समाधान के लिए डीडी फ्री-डिश ने कई शैक्षिक चैनलों के लिए एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराया था। इस प्रकार, पूरे भारत में छात्रों के लिए शिक्षा की निरंतर सुविधा सुनिश्चित की गयी। हाल में जारी दर्शकों के आंकड़े भी डीडी फ्री-डिश द्वारा पूरे भारत में टेलीविजन के माध्यम से सार्वजनिक और राष्ट्रीय स्तर पर पहुँच बनाने के एक प्लेटफार्म के रूप में निभाई जा रही केंद्रीय भूमिका का समर्थन करते हैं।

परीक्षा पे चर्चा 2022 के कुल दर्शकों में से 33 प्रतिशत दर्शकों ने डीडी फ्री-डिश प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध विभिन्न टीवी चैनलों पर इस कार्यक्रम को देखा। उल्लेखनीय है कि कई उद्योग अनुमानों ने भारत के कुल टीवी घरों के लगभग 20 प्रतिशत घरों में डीडी फ्री-डिश के स्थापित आधार की बात कही है। राष्ट्रीय पहुंच के बारे में डीडी फ्री-डिश के महत्व को इस तथ्य द्वारा रेखांकित किया गया है कि गणतंत्र दिवस परेड 2022 के कुल दर्शकों में से 26 प्रतिशत ने इस कार्यक्रम को डीडी फ्री-डिश पर उपलब्ध विभिन्न चैनलों पर देखा।

2000 के दशक की शुरुआत में अटल बिहारी वाजपेयी की अगुआई वाली NDA सरकार द्वारा शुरू की गई, डीडी फ्री-डिश, जिसे तब डीडी डायरेक्ट प्लस के नाम से जाना जाता था, को बाद में 2004 में लॉन्च किया गया था। पीएम मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के कार्यकाल के दौरान पुनरुद्धार के बाद, डीडी फ्री-डिश प्लेटफार्म का हाल के वर्षों में तेजी से विकास हुआ है। 2015 के बाद से पिछले 7 वर्षों में, डीडी फ्री-डिश के सदस्यता आधार में 100% से अधिक की वृद्धि हुई है। बीते वर्ष जारी फिक्की-ईवाई 2022 रिपोर्ट के अनुसार; डीडी फ्री-डिश, 43 मिलियन से अधिक घरों तक पहुंच के साथ टीवी वितरण उद्योग में सबसे बड़े प्लेटफार्म के रूप में उभरा है, जबकि कुछ विश्लेषकों का अनुमान है कि यह संख्या और भी बड़ी हो सकती है।

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM