May 30, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

बड़थ्वाल कुटुंब द्वारा हिंदी के प्रथम डी. लिट्. डॉ बड़थ्वाल जी की जयंती पर समारोह

*बड़थ्वाल कुटुंब द्वारा हिंदी के प्रथम डी. लिट्. डॉ बड़थ्वाल जी की जयंती पर समारोह*
डॉ. पीताम्बर दत्त बड़थ्वाल ज़ी के जयंती पर्व (13 दिसम्बर,2022) पर बड़थ्वाल कुटुंब द्वारा एक विचार गोष्ठी का आयोजन “गीतांजली सभागार“ दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी, चाँदनी चौक में किया गया. कार्यक्रम का प्रारम्भ दीप प्रजल्वित व् डॉ माधुरी जी द्वारा गाया हुआ मांगल गीत से हुआ. कार्यक्रम के मुख्य अतिथियों प्रो. ओमप्रकाश सिंह ( अध्यक्ष, भारतीय भाषा केंद्र,जे एन यू दिल्ली), डॉ. देवेन्द्र कुमार सिंह जी ( वरिष्ठ साहित्यकार, वाराणसी) प्रो. नवीन चन्द्र लोहनी ( अध्यक्ष हिंदी विभाग, चौ चरण सिंह विवि मेरठ), डॉ. हरी सिंह पाल ( महामंत्री, नागरी लिपि परिषद), श्री रमेश चन्द्र घिल्डियाल (वरिष्ठ हिंदी/गढ़वाली साहित्यकार) का सम्मान पुष्प, शाल व् मोमेंटो बड़थ्वाल कुटुंब के गणमान्य व्यक्तित्वों द्वारा किया गया. कार्यक्रम के संयोजक व् बड़थ्वाल कुटुंब की सोच रखने वाले श्री प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल जी ने बड़थ्वाल कुटुंब द्वारा इस आयोजन की प्रस्तावना रखते हुए डॉ. बड़थ्वाल जी का संक्षिप्त परिचय दिया. अध्यक्ष श्री राजकुमार बड़थ्वाल जी का परिचय देकर उनका सन्देश पढकर .सुनाया साथ ही पद्म श्री से सम्मानित डॉ माधुरी बड़थ्वाल जी एवं बड़थ्वाल कुटुंब महान ज्योतिषाचार्य पं मुकुंद राम बड़थ्वाल दैवेज्ञ जी का परिचय लोगो से करवाया और उनके अप्रकाशित ग्रंथ के सरंक्षण हेतु आगे आने के लिए आवाहन किया. कार्यक्रम का संचालन सुहरी पम्मी बड़थ्वाल जी ने किया. विशेष सहायता श्री राजेन्द्र बड़थ्वाल, श्री नरेंद्र बड़थ्वाल व् श्री कमलेश बड़थ्वाल जी की रही.
उपस्थित अतिथियों के व्यक्तव्यों से डॉ बड़थ्वाल जी के कई पहलुओं से अवगत कराया और साहित्य में हो रहे उन बिन्दुओं की और इशारा भी किया जिसके कारण से डॉ. बड़थ्वाल जी के कृतित्व्वो व् व्यक्तित्व को वह सम्मान नहीं मिला जिनके बड़थ्वाल जी हकदार थे. प्रो ओपी सिंह जी, डॉ देवेन्द्र सिंह जी, प्रो. लोहनी जी ने कहा कि उनकी ग्र्न्थवाली व् कुछ अन्य कार्यों को पुन: प्रकाशित किया जाना चाहिए. इसका समर्थन डॉ हरिसिह पाल जी व् श्री रमेश घिल्डियाल जी ने भी किया और पूरा सहयोग का आश्वाशन दिया. दैवेज्ञ जी के अप्रकाशित ग्रंथो हेतु सहयोग देने की बात को भी मंच द्वारा कहा गया.
बड़थ्वाल कुटुंब द्वारा मेधावी छात्र प्रोत्साहन कार्यक्रम में विजेताओं के नामो की घोषणा की गई. दिल्ली में उपस्थित छात्रो प्रणव बड़थ्वाल, सिद्दार्थ बडथ्वाल व् रुद्राक्ष धस्मना को पुष्प मैडल, प्रशस्ति पत्र एवं पुरस्कार राशी भेंट की गई. अन्य विजताओं को राशी, सम्मान पत्र, मैडल यथा स्थान भेज दिए जायेंगे.
कुटुंब कार्यक्रम में बड़थ्वाल प्रतिबिम्ब की माता जी श्रीमती प्रभा बड़थ्वाल जी भी उपस्थित रही. प्रतिबिम्ब जी ने उनका सम्मान किया तथा श्रीमती प्रभा बड़थ्वाल जी ने सभागार में उपस्थित सभी अतिथियों को पुष्प देकर धन्यवाद बड़थ्वाल कुटुंब की ओर से दिया. इस कार्यक्रम में ब्रिगेडियर (रि) श्री, श्रीमती गोबिंद बड़थ्वाल, श्री मदन मोहन बडथ्वाल ( पूर्व महानिदेशक, भारत इलक्ट्रोनिकस लिमिटेड), श्रीमती क्षितिजा बड़थ्वाल, श्री व् श्रीमती आनंद मणि बड़थ्वाल, श्री व् श्रीमती विष्णुदत्त बड़थ्वाल,श्री गिरीश चन्द्र बड़थ्वाल, श्री हेमंत बड़थ्वाल, श्री नरेंद्र बड़थ्वाल, श्री राजेन्द्र बड़थ्वाल श्री कमलेश बड़थ्वाल, श्रीमती पम्मी बड़थ्वाल व् श्री अमिताभ श्रीवास्तव, सुश्री परिक्रमा बड़थ्वाल, श्री जैश बड़थ्वाल, श्री हरि प्रसाद बडथ्वाल, श्री प्रवीन बड़थ्वाल श्रीमति नंदनी बड़थ्वाल, सुश्री साक्षी बड़थ्वाल कुछ नाम है जो उपस्थित रहे. उत्तराखण्ड लोकभाषा साहित्य मंच दिल्ली के संयोजक श्रो दिनेश ध्यानी जी , बडूनी जी, सुशील बुडाकोटी जी, श्री बृज मोहन वेद्वाल जी, श्री जगमोहन रावत जी, श्री गिरधारी सिंह रावत जी, श्री जबर सिंह कैंथुरा जी, श्री दर्शन सिंह रावत जी सहित गढ़वाली हिंदी के साहित्यकार सम्मिलित हुए. साथ ही उपस्थिति रही डॉ योगेन्द्र जी, श्री लक्ष्मी प्रसाद डोभाल जी, कुमकांत खुवालकर जी, अरुण कुमार पासवान जी, श्री ओपी पाल जी, श्री पंकज कुमार जी, सुश्री मौलिना सिंह, श्री प्रदीप रावत जी, श्री राजीव मिश्रा जी, श्री पवन कुमार जी, श्री विशाल सिंह जी. विशेष उपस्थिति रही गढ़वाल अध्ययन प्रतिष्ठान के अध्यक्ष श्री ब्रह्मानंद कगडियाल जी की, उन्होंने भी प्रतिष्ठान की ओर से बड़थ्वाल जी के कार्यो हेतु हर संभव सहायता का भरोसा दिया.
कार्यक्रम के अंत में प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल जी ने सभी मंचासीन अतिथियों का व् सभागार में आये सभी अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया. तत्पश्चात रात्रि भोज का आनंद सबने उठाया.
बड़थ्वाल कुटुंब के सफल आयोजन हेतु प्रतिबिम्ब जी ने बड़थ्वाल कुटुंब के सदस्यों का आभार प्रकट किया. और डॉ. बड़थ्वाल जी व पं मुकुन्द् राम “दैवेज्ञ” जी के कार्यो को सामने लाने व् उनके सरंक्षण हेतु प्रतिबद्धता जताई.
बड़थ्वाल कुटुंब द्वारा देहरादून में भी कार्यक्रम का आयोजन 18 दिसम्बर को प्रेस कल्ब में 10 बजे से किया जाएगा.

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM