April 24, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

जैसे की हम जानते हैं की ये युग Digital का है. ऐसे में यदि आपको डिजिटल मार्केटिंग क्या है पता नहीं तो शायद आप दूसरों से थोड़े पीछे हो सकते हैं. मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्यूंकि हमें अपने बदलते युग के साथ साथ चलना है नहीं तो हम कहीं पीछे रह जायेंगे।

और ये बात business में भी लागु होती है. वो दिन गए जब लोग घर घर जाकर अपने चीज़ों के बारे में बताते थे, इस प्रकार की strategy आज के दोर पर चल पाना मुस्किल ही नहीं नामुमकिन के तरह है. क्यूंकि इससे समय की बहुत बर्बादी होती है और इतने कम समय में इतने लोगों तक पहुँच पाना लगभग नामुमकिन सा है.

ऐसे में Digital Marketing के बहुत ही बढ़िया उपाय है अपने Products की marketing के लिए. जिससे बहुत ही कम समय में Companies अपने targeted ग्राहकों के निकट पहुँच सकते हैं. यदि हम पिछले कुछ वर्षों की बात करें तो हम ये पाएंगे की विज्ञापनों का स्वरुप काफी बदल सा गया है. पहले लोग अपने विज्ञापनों को ऐसी जगह पर चलाते थे जहाँ ज़्यादातर लोगों की निगाह पड़े, जैसे की टीवी विज्ञापनों, रेडियो और तमाम तरीकों को अमल में लाया जाता था।

लेकिन ये बात अब कारगर न हो क्यूंकि आज के दौर में आपको सबसे ज्यादा भीड़ कहीं मिलेगी तो वो जगह है Social Media या Internet. ऐसे में अगर आप को एक साथ लाखों लोगो तक अपने विज्ञापन को पहुचाना है तो आपको पुराने परंपरागत Marketing के फंडो को छोड़ कर Digital Marketing की ओर रुख करना पड़ेगा.

इसीलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को Digital Marketing के बारे में विस्तार में जानकारी दे दी जाये जिससे की आपको भी इस नए Concept Digital Marketing के बारे में पता चले. तो फिर देरी किस बात की चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की आखिर ये डिजिटल मार्केटिंग क्या होता है और ये कैसे काम करता है.

डिजिटल मार्केटिंग क्या है – What is Digital Marketing in Hindi
Digital Marketing दो शब्दों का समाहार है Digital और Marketing. यहाँ पर Digital का संपर्क Internet से है और Marketing का सम्बन्ध विज्ञापन से है. मेरे कहने का तात्पर्य यह है की ये एक ऐसा जरिया है जिसमें की Companies अपने Products की Marketing electronic media के द्वारा करती है, जो की traditional तरीके से काफी अलग है।

यहाँ Digital Marketers को अलग अलग marketing campaigns तैयार कर उसे किसी Company की Product को sell करने में experiment करना होता है. उन्हें इन marketing campaigns को analyze करना होता है की कैसे चीज़ों को लोग ज्यादा पसंद करते हैं और किन्हें नहीं.

उन्हें ये भी देखना होता है की किसी प्रकार के चीज़ों को लोग ज्यादा देखते हैं, क्या उनके attention को अपने तरफ ज्यादा आकर्षित करती है, और किन चीज़ों को देखकर वो चीज़ों को खरीदते हैं।

इन digital campaingn को करने के लिए वो mobile messages, mobile apps, podcasts, electronic billboards और radio channels जैसे दुसरे digital माध्यम का इस्तमाल करते हैं.

एक reality की बात यह है की पहले समय के मुकाबले आजकल लोग सबसे ज्यादा समय online ही व्यतीत करते हैं. इसीलिए अभी का business model भी काफी हद तक बदल गया है, इसलिए अब Offline Marketing का लोग ज्यादा इस्तमाल नहीं कर रहे है बल्कि अब Online Marketing ज्यादा कारगर सिद्ध हो रहा है।

क्यूंकि अब तो Marketing का सही माईने ये है की सही Audience से सही जगह में और सही समय में Connect करना ही इसका उचित मतलब है. इसलिए आपको ये सोचना होगा की आप इन लोगों से कहाँ मिल सकते हैं जिससे आप अपना business बढ़ा सकते हैं. और इसका जवाब है online.

क्यूँ Digital Marketing इतना जरुरी है?
अब बात आता है की आखिर ये Digital Marketing इतना जरुरी क्यूँ है. तो में आपको ये बता देना चाहता हूँ की आजकल की ये Digital Media इतनी ज्यादा open है की आज सभी के पास information के बहुत से source हैं. वो किसी भी समय और किसी भी जगह में कोई भी जानकरी प्राप्त कर सकते हैं।

अब वो दिन नहीं रह गए जब वो Text Messages पर निर्भर रहते थे और वो वही चीज़ देख पाते थे जिनके बारे में उन्हें marketers जानकारी देता था. जैसे की ये Digital media दिनबदिन बढ़ते ही जा रहा है और इसमें और ज्यादा entertainment, news, shopping और Social Interaction हो रहे हैं. आजकल Consumers केवल Company की बातें ही नहीं सुन रहे हैं बल्कि वो खुद भी अच्छे और बुरे की पहचान कर रहे हैं और दूसरों से भी information collect कर रहे हैं.

आजकल वो किसी ऐसे Brand पर trust करना चाहते हैं जिसमें की trust कर सकें, companies को की उनकी जरूरतों को समझे, और उन्हें उनके जरुरत के हिसाब से चीज़ें दिखाएँ जो की वो बाद में खरीद सके. उन्हें फालतू की show बाजी से कोई दिलचस्पी नहीं है. उन्हें ऐसे Brand चाहिए जिन्हें वो विस्वास कर सके, और जो उनके उम्मीदों पर खरा उतरे.

Challenges जिन्हें की Digital Marketers को झेलना पड़ता है
1. Digital channels का बहुउपयोग
Consumers बहुत सारे digital channels का उपयोग अपने अलग अलग devices में कई प्रकार से करते हैं जिसके लिए उन्हें अलग अलग protocols, specifications और interfaces का उपयोग करना पड़ता है. इसलिए उनसे सही तरीके से interact कर पाना Digital Marketers के पक्ष में संभव नहीं हो पाता.

2. Competition की intensity बढ़ जाना
Digital channels दुसरे traditional media की तुलना में ज्यादा सस्ते होते हैं जिससे उनका इस्तमाल करना किसी भी business size के लोगों के लिए आसान हो जाता है. इसलिए अब consumer attention को पाना इतना आसान नहीं रह गया है..

3. Data volumes का बढ़ जाना
किसी भी digital channel में आख़िरकर consumers बहुत सारा data पीछे छोड़ जाते हैं. इन data को handle कर पाना बहुत ही मुस्किल होता है. इसके साथ सही data को खोज पाना उन data volume से ये भी एक बहुत बड़ी चुनौती होती है.

Digital Marketing के मुख्य Assets और Tactics क्या हैं?
यहाँ पर हम Digital Marketing के कुछ ऐसे assets और tactics के बारे में जानेंगे जिन्हें आप शायद जानते भी हों.
Digital Marketing के Assets

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे
किसी दुसरे offline marketing तरीकों के मुकाबले digital marketing से marketers real time में accurate results देख सकते हैं।

अगर आपने कभी किसी अख़बार में advertise करी है तब तो आपको ये जरुर पता होगा की ये कह पाना कितना मुस्किल है की कितने लोगों ने वाकई आपके advertisement को देखा है. ये जान पाना भी मुमकिन नहीं है।

वहीँ digital markeitng में ये काम बड़ी आसानी से और सही तरीके से किया जा सकता है। यहाँ मैं आप लोगों को कुछ ऐसे ही उदहारण देकर समझाने की कोशिश करूँगा.

Website Traffic
Digital Marketing के मदद से ये सही रूप में जानना बिलकुल ही आसान है की कितने लोगों ने आपके दिए हुए ads को देखा है, इस काम में हम कोई digital analytics software का इस्तमाल कर सकते हैं. इससे आप ये भी जान सकते हैं की किस Source से आपके website में सबसे ज्यादा traffic आते हैं और आप उसके अनुसार काम कर सकते हैं.

Content Performance और Lead Generation
यहाँ आप ये सोच सकते हैं अगर आपने कोई product broucher बनाया है और उसे लोगों के letter boxes में भेजा है. तो यहाँ आपको वही दिक्कत और एक बार आएगी की आपको ये पता ही नहीं चलेगा की कितने लोगों ने आपके इस product broucher को खोल के देखा है और कितनों ने नहीं।

यहाँ यदि एक website में आपका एक Broucher होता तब आप ये आसानी से देख सकते हैं की कितने लोगों ने आपके Broucher को खोला और पढ़ा. यहाँ आप इस सभी चीज़ों के बारे में अच्छी तरीके से जान सकते हैं।

Attribution Modeling
ये एक बहुत ही शानदार और effective तरीका है जिसमें की आपको सही tools और technology का इस्तमाल करना पड़ता है जिससे आप अपने customers के सभी actions को trace कर सकते हैं।

इसे हम attribut modelling इसलिए कहते हैं क्यूंकि ये हमें allow करता है ये जानने लिए की मेह्जुदा trend क्या है, किस तरीके से लोग कोई product को research कर रहे हैं. इससे आप ये जान सकते हैं की कोन सी area में आपको ज्यादा मेहनत करने की जरूरत है और क्यूँ. इससे

आपकी sales भी काफी हद तक बढ़ जाएँगी.

किस प्रकार के Content बनाना सही रहेगा?
आप किस प्रकार के content बनायेंगे ये आपके audience की जरूरतों के ऊपर निर्भर करता है की उन्हें अलग अलग stages में किस प्रकार की जरुरत होती है. आपको आपके audience के goals और challenges को समझना होगा की वो किस तरह से आपके business से सम्पर्कित हैं।

आपका ये लक्ष्य होना चाहिए की basic level में आपकी online content उनको उनके Challenges को पार करने में मदद करनी चाहिए.

– आज के युग में सब ऑनलाइन हो गया है। इंटरनेट ने हमारे जीवन को बेहतर बनाया है और हम इसके माध्यम से कई सुविधाओं का आनंद केवल फ़ोन या लैपटॉप के ज़रिये ले सकते है।

(ऑनलाइन शॉपिंग, टिकट बुकिंग, रिचार्ज, बिल पेमेंट, ऑनलाइन ट्रांसक्शन्स) आदि जैसे कई काम हम इंटरनेट के ज़रिये कर सकते है । इंटरनेट के प्रति Users के इस रुझान की वजह से बिज़नेस Digital Marketing (डिजिटल मार्केटिंग) को अपना रहे है ।

यदि हम market stats की ओर नज़र डालें तो लगभग 80% shoppers किसी की product को खरीदने से पहले या service लेने से पहले online research करते है । ऐसे में किसी भी कंपनी या बिज़नेस के लिए डिजिटल मार्केटिंग महत्वपूर्ण हो जाती है।

डिजिटल मार्केटिंग का तात्पर्य क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग का तात्पर्य क्या है? [Digital Marketing Kya Hai?]
डिजिटल मार्केटिंग क्यो आवश्यक है ? [Importance of Digital Marketing in Hindi]
वर्तमान समय में डिजिटल मार्केटिंग की मांग – [Future of Digital Marketing in Hindi]
डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार [Types of Digital Marketing]
(i) सर्च इंजन औप्टीमाइज़ेषन या SEO
(ii) सोशल मीडिया (Social Media)
(iii) ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing)
(iv) यूट्यूब चेनल (YouTube Channel)
(v) अफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)
(vi) पे पर क्लिक ऐडवर्टाइज़िंग या PPC marketing
(vii) एप्स मार्केटिंग (Apps Marketing)
डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिताएं – [Uses of Digital Marketing in Hindi]
निष्कर्ष [Digital Marketing Kya hai?]

डिजिटल मार्केटिंग क्या है?
डिजिटल मार्केटिंग क्या है?

अपनी वस्तुएं और सेवाओं की डिजिटल साधनो से मार्केटिंग करने की प्रतिक्रिया को डिजिटल मार्केटिंग कहते है ।डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट के माध्यम से करते हैं । इंटरनेट, कंप्यूटर, मोबाइल फ़ोन , लैपटॉप , website adertisements या किसी और applications द्वारा हम इससे जुड सकते हैं।

1980 के दशक में सर्वप्रथम कुछ प्रयास किये गये डिजिटल मार्किट को स्थापित करने में परंतु यह सम्भव नही हो पाया । 1990 के दशक मे आखिर मे इसका नाम व उपयोग शुरु हुआ।

डिजिटल मार्केटिंग नये ग्राहकों तक पहुंचने का सरल माध्यम है। यह विपणन गतिविधियों को पूरा करता है। इसे ऑनलाइन मार्केटिंग भी कहा जा सकता है। कम समय में अधिक लोगों तक पहुंच कर विपणन करना डिजिटल मार्केटिंग है। यह प्रोध्योगीकि विकसित करने वाला विकासशील क्षेत्र है।

डिजिटल मार्केटिंग से उत्पादक अपने ग्राहक तक पहुंचने के साथ ही साथ उनकी गतिविधियों, उनकी आवश्यकताओं पर भी दृष्टी रख सकता है। ग्राहकों का रुझान किस तरफ है, ग्राहक क्या चाह रहा है, इन सभी पर विवेचना डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा की जा सकती है। सरल भाषा में कहें तो डिजिटल मार्केटिंग डिजिटल तकनीक द्वारा ग्राहकों तक पहुंचने का एक माध्यम है।

डिजिटल मार्केटिंग क्यो आवश्यक है ? [Importance of Digital Marketing in Hindi]

डिजिटल मार्केटिंग क्यो आवश्यक है?

यह आधुनिकता का दौर है और इस आधुनिक समय में हर वस्तु में आधुनिककरन हुआ है। इसी क्रम में इंटरनेट भी इसी आधुनिकता का हिस्सा है जो जंगल की आग की तरह सभी जगह व्याप्त है। डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट के माध्यम से कार्य करने में सक्षम है।

आज का समाज समय अल्पता से जूझ रहा है, इसलिये डिजिटल मार्केटिंग आवश्यक हो गया है। हर व्यक्ति इंटरनेट से जुड़ा है वे इसका उपयोग हर स्थान पर आसानी से कर सकता है । अगर आप किसी से मिलने को कहो तो वे कहेगा मेरे पास समय नही है, परंतु सोशल साइट पर उसे आपसे बात करने में कोई समस्या नही होगी । इन्ही सब बातों को देखते हुए डिजिटल मार्केटिंग इस दौर में अपनी जगह बना रहा है ।

जनता अपनी सुविधा के अनुसार इंटरनेट के जरिये अपना मनपसंद व आवश्यक सामान आसानी से प्राप्त कर सकती है । अब बाज़ार जाने से लोग बचते हैं ऐसे में डिजिटल मार्केटिंग बिज़नेस को अपने products और services लोगो तक पहुंचाने में मदद करती है। डिजिटल मार्केटिंग कम समय में एक ही वस्तु के कयी प्रकार दिखा सकता है और उप्भोक्ता को जो उपभोग पसंद है वे तुरंत उसे ले सकता है। इस माध्यम से उपभोकता का बाज़ार जाना वस्तु पसंद करने, आने जाने में जो समय लगता है वो बच जाता है ।

ये वर्तमान काल में आवश्यक हो गया है । व्यापारी को भी व्यापार में मदद मिल रही है। वो भी कम समय में अधिक लोगो से जुड़ सकता है और अपने उत्पाद की खूबियाँ उपभोक्ता तक पहुँचा सकता है।

वर्तमान समय में डिजिटल मार्केटिंग की मांग – [Future of Digital Marketing in Hindi]

वर्तमान समय में डिजिटल मार्केटिंग की मांग|

परिवर्तन जीवन का नियम है , यह तो आप सब जानते ही हैं। पहले समय में और आज के जीवन में कितना बदलाव हुआ है और आज इंटरनेट का जमाना है । हर वर्ण के लोग आज इंटरनेट से जुड़े है, इन्ही सब के कारण सभी लोगो को एक स्थान पर एकत्र कर पाना आसान है जो पहले समय में सम्भव नही था । इंटरनेट के जरिये हम सभी व्यवसायी और ग्राहक का तारतम्य स्थापित भी कर सकते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग की मांग वर्तमान समय में बहुत प्रबल रुप में देखने को मिल रही है। व्यापारी जो अपना सामान बना रहा है , वो आसानी से ग्राहक तक पहुंचा रहा है। इससे डिजिटल व्यापार को बढ़ावा मिल रहा है ।

पहले विज्ञापनो का सहारा लेना पड़ रहा था। ग्राहक उसे देखता था, फिर पसंद करता था , फिर वह उसे खरीदता था। परंतु अब सीधा उपभोक्ता तक सामान भेजा जा सकता है । हर व्यक्ति गूगल, फेसबुक , यूट्यूब आदि उपयोग कर रहा है, जिसके द्वारा व्यापारी अपना उत्पाद-ग्राहक को दिखाता है । यह व्यापार सबकी पहुंच में है- व्यापारी व उपभोक्ता की भी।

हर व्यक्ति को आराम से बिना किसी परिश्रम के प्रतयेक उपयोग की चीज़ मिल जाती है। व्यापारी को भी यह सोचना नही पड़ता कि वह अखबार, पोस्टर, या विज्ञापन का सहारा ले। सबकी सुविधा के मद्देनजर इसकी मांग है। लोगों का विश्वास भी डिजिटल मार्किट की ओर बड़ रहा है। यह एक व्यापारी के लिये हर्ष का विषय है। कहावत है “ जो दिखता है वही बिकता है” – डिजिटल मार्किट इसका अच्छा उदाहरण है ।

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार [Types of Digital Marketing]

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार|

सबसे पहले तो आपको यह बता दे कि डिजिटल मार्केटिंग करने के लिये ‘इंटरनेट’ ही एक मात्र साधन है। इंटरनेट पर ही हम अलग-अलग वेबसाइट के द्वारा डिजिटल मार्केटिंग कर सकते हैं । इसके कुछ प्रकार के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं –

(i) सर्च इंजन औप्टीमाइज़ेषन या SEO
यह एक ऐसा तकनीकी माध्यम है जो आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन के परिणाम पर सबसे ऊपर जगह दिलाता है जिससे दर्शकों की संख्या में बड़ोतरी होती है। इसके लिए हमें अपनी वेबसाइट को कीवर्ड और SEO guidelines के अनुसार बनाना होता है।

(ii) सोशल मीडिया (Social Media)
सोशल मीडिया कई वेबसाइट से मिलकर बना है – जैसे Facebook, Twitter, Instagram, LinkedIn, आदि । सोशल मीडिया के माध्यम से व्यक्ति अपने विचार हजारों लोगों के सामने रख सकता है । आप भली प्रकार सोशल मीडिया के बारे में जानते है । जब हम ये साइट देखते हैं तो इस पर कुछ-कुछ अन्तराल पर हमे विज्ञापन दिखते हैं यह विज्ञापन के लिये कारगार व असरदार जरिया है।

(iii) ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing)
किसी भी कंपनी द्वारा अपने उत्पादों को ई-मेल के द्वारा पहुंचाना ई-मेल मार्केटिंग है। ईमेल मार्केटिंग हर प्रकार से हर कंपनी के लिये आवश्यक है क्योकी कोई भी कंपनी नये प्रस्ताव और छूट ग्राहको के लिये समयानुसार देती हैं जिसके लिए ईमेल मार्केटिंग एक सुगम रास्ता है।

(iv) यूट्यूब चेनल (YouTube Channel)
सोशल मीडिया का ऐसा माध्यम है जिसमे उत्पादक अपने उत्पादों को लोगों के समक्ष प्रत्यक्ष रुप से पहुंचाना है। लोग इस पर अपनी प्रतिक्रया भी व्यक्त कर सकते हैं। ये वो माध्यम है जहां बहुत से लोगो की भीड़ रह्ती है या यूं कह लिजिये की बड़ी सन्ख्या में users/viewers यूट्यूब पर रह्ते हैं। ये अपने उत्पाद को लोगों के समक्ष वीडियो बना कर दिखाने का सुलभ व लोकप्रिय माध्यम है।

(v) अफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)
वेबसाइट, ब्लोग या लिंक के माध्यम से उत्पादनों के विज्ञापन करने से जो मेहनताना मिलता है, इसे ही अफिलिएट मार्केटिंग कहा जाता है। इसके अन्तर्गत आप अपना लिंक बनाते हैं और अपना उत्पाद उस लिंक पर डालते है । जब ग्राहक उस लिंक को दबाकर आपका उत्पाद खरीदता है तो आपको उस पर मेहन्ताना मिलता है।

(vi) पे पर क्लिक ऐडवर्टाइज़िंग या PPC marketing
जिस विज्ञापन को देखने के लिए आपको भुगतान करना पड़ता है उसे ही पे पर क्लिक ऐडवर्टीजमेंट कहा जाता है। जैसा की इसके नाम से विदित हो रहा है की इस पर क्लिक करते ही पैसे कटते हैं । यह हर प्रकार के विज्ञापन के लिये है ।यह विज्ञापन बीच में आते रह्ते हैं। अगर इन विज्ञापनो को कोई देखता है तो पैसे कटते हैं । यह भी डिजिटल मार्केटिंग का एक प्रकार है।

(vii) एप्स मार्केटिंग (Apps Marketing)
इंटरनेट पर अलग-अलग ऐप्स बनाकर लोगों तक पहुंचाने और उस पर अपने उत्पाद का प्रचार करने को ऐप्स मार्केटिंग कहते हैं । यह डिजिटल मार्केटिंग का बहुत ही उत्तम रस्ता है। आजकल बड़ी संख्या में लोग स्मार्ट फ़ोन का उपयोग कर रहे हैं । बड़ी-बड़ी कंपनी अपने एप्स बनाती हैं और एप्स को लोगों तक पहुंचाती है।

डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिताएं – [Uses of Digital Marketing in Hindi]

डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिताएं |

डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिता के बारे में हम आप को बता रहे हैं –

(i) आप अपनी वेबसाइट पर ब्रोशर बनाकर उस पर अपने उत्पाद का विज्ञापन लोगों के लेटेर-बॉक्स पर भेज सकते हैं। कितने लोग आपको देख रहे हैं यह भी पता लगाया जा सकता है।

(ii) वेबसाइट ट्रेफ़िक- सबसे ज्यादा दर्शकों की भीड़ किस वेबसाइट पर है – पहले ये आप जान ले , फिर उस वेबसाइट पर अपना विज्ञापन डाल दें ताकी आपको अधिक लोग देख सकें ।

(iii) एटृब्युषन मॉडलिंग – इसके द्वारा ह्म यह पता कर सकते है की आजकल लोग किस उत्पाद में रुचि ले रहे हैं या किन-किन विज्ञापनों को देख रहे हैं । इसके लिये विशेश टूल का प्रयोग करना होता है जो की एक विशेश तकनीक के द्वारा किया जा सकता है और ह्म अपने उपभोक्ताओं की हरकतें यानी उनकी रुचि पर नज़र रख सकते हैं।

आप अपने उपभोक्ता से किस प्रकार सम्पर्क बना रहे हैं यह विषय महत्वपूर्ण है। आप उनकी आवश्यक्ता के साथ पसंद पर भी दृष्टी बनाकर रखा करें ऐसा करने से व्यापार में वृद्घि हो सकती है।

आप पर उनका विश्वास भी अत्यन्त आवश्यक है, की वह विज्ञापन देख कर आपका उत्पाद खरीदने में संकोच न करें तुरंत ले लें। इनके विश्वास को आपने विश्वास देना है। ग्राहक को आश्वासन दिलाना आपका दायित्व है। अगर किसी को सामान पसंद न आये तो उसको बदलने के लिये वो अपना संदेश आप तक पहुंचा सके इसके लिये ईबुक आपकी सहायता कर सकता है।

डिजिटल मार्केटिंग एक एसा माध्यम बन गया है जिससे कि मार्केटिंग (व्यापार) को बढ़ाया जा सकता है। इसके उपयोग से सभी लाभान्वित हैं । उपभोक्ता व व्यापारी के बीच अच्छे से अच्छा ताल-मेल बना रहे हैं , इसी सामजस्य को डिजिटल मार्केटिंग द्वारा पूरा किया जा सकता है । डिजिटल मार्केटिंग आधुनिकता का एक अनूठा उद्धरण है।

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM