June 16, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

हर साल 12 मई को मनाया जाता है इंटरनेशनल नर्स डे।

International Nurses Day 2022: मार्डन नर्सिंग की संस्थापक के जन्म को सेलिब्रेट करता है नर्स डे

International Nurse Day 2022: इंटरनेशनल नर्स डे का उद्देश्य दुनिया भर में नर्सों को सम्मानित कर उनके महत्व पर प्रकाश डालना है।

हर साल 12 मई को मनाया जाता है इंटरनेशनल नर्स डे।
12 मई को फ्लोरेंस नाइटिंगेल का भी जन्म हुआ था।
मॉर्डन नर्सिंग की संस्थापक हैं फ्लोरेंस।
वक़्त नहीं है? हाइलाइट्स पढ़ने के लिए डाउनलोड ऐप

nurse day 2022

International Nurse Day 2022: 12 मई को हुआ था फ्लोरेंस नाइटिंगेल का जन्म।

मेडिकल स्टाफ यानी डॉक्टर, नर्स इत्यादी को अक्सर भगवान की संज्ञा दी जाती है क्योंकि धरती पर जान बचाने का साहस और प्रतिभा केवल उनमें ही मौजूद है। इसी त्याग और समर्पण के भाव को दुनिया को बताने के लिए पूरा विश्व 12 मई यानी फ्लोरेंस नाइटिंगेल के जन्मदिवस को हर साल इंटरनेशनल नर्स डे (International Nurses Day 2022) के रूप में मनाता है। इस दिन का उद्देश्य नर्स को उनके कार्य के लिए सम्मान देना है। आइए जानते हैं इस खास और महत्वपूर्ण दिन का इतिहास और महत्व।

इतिहास (International Nurses Day 2022 History)
1965 में इंटरनेशल काउंसिल ऑफ नर्स (INC) ने इंटरनेशनल नर्स डे को मनाना शुरू किया था। इस दिन यानी 12 मई को मॉर्डन नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। फ्लोरेंस एक समाज सुधारक और इंग्लिश नर्स थीं। फ्लोरेंस नाइटिंगेल वह थी जिन्होंने नर्सिंग के प्रोफेशन में अपने कदम रखे और इसे एक प्रसिद्ध प्रोफेशन बना दिया। इंटरनेशनल नर्स डे का उद्देश्य दुनिया भर में नर्सों को सम्मानित कर उनके महत्व पर प्रकाश डालना है।

थीम (International Nurses Day 2022 Theme)

इंटरनेशनल नर्स डे को मनाने के लिए एक थीम रखा जाता है और 2022 का थीम है Nursing the World to Health।

महत्व (International Nurses Day 2022 significance)
विश्व के सभी हेल्थ वर्कर में आधे से ज्यादा योगदान नर्सों का है लेकिन तब भी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार, दुनिया भर में नर्सों की बेहद कमी है, विशेष रूप से लो इनकम देशों और मिडिल इनकम वाले देशों में 5.9 मिलियन और नर्स की आवश्यकता है। इनका महत्व हमें कोरोना के दौरान और अधिक देखने को मिला जब पूरी दुनिया के लिए किसी भी धन से ज्यादा जरूरी हो गया था हेल्थ। इस त्रासदी के समय मेडिकल स्टाफ खासतौर पर डॉक्टरों और नर्सों ने अपनी चिंता छोड़ मानव जाति को बचाने में अपनी सारी शक्ति लगा दी। लेकिन डॉक्टर को तो हर कोई क्रेडिट देता है लेकिन नर्सों को अक्सर वो सम्मान और क्रेडिट नहीं मिलता जो उन्हें मिलना चाहिए।

 

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM