May 28, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

 

  • साहिर लुधयानवी

 

साहिर लुधयानवी का  जन्म दिन 8 मार्च

■ साहिर लुधयानवी का जीवन परिचय ■

 

साहिर लुधियानवी का जन्म 8 मार्च, 1921 को पंजाब के लुधियाना में करीमपुरा इलाके में हुआ था। उनका असली नाम अब्दुल हई (वैकल्पिक वर्तनी है या हई) था। उनके पिता का नाम फजल मोहम्मद था और उनकी माता का नाम सरदार बेगम था जो कश्मीरी थी । उनके दादा का नाम फतेह मोहम्मद था। उनका जन्म जमींदारों के एक धनी परिवार में हुआ था। जब साहिर 13 साल के थे, तब उनके पिता ने दोबारा शादी की। इस घटना से आहत होकर साहिर की माँ ने एक साहसिक कदम उठाया और अपने पति को तलाक देने का फैसला किया। साहिर के पिता ने हिरासत के लिए मुकदमा दायर किया, लेकिन हार गए। उसने साहिर की जान को खतरा बताया और साहिर की माँ को उसे लगातार निगरानी में रखना पड़ा। इसलिए साहिर के बचपन डर और आर्थिक तंगी में बीते।

★ साहिर की शिक्षा दीक्षा ★

साहिर ने अपनी स्कूली शिक्षा लुधियाना के खालसा हाई स्कूल से की। उन्हें एक अच्छा, परिश्रमी छात्र माना जाता था। उन्होंने उर्दू और फ़ारसी मौलाना फ़राज़ हरियाणवी से सीखी। मैट्रिक के बाद, उन्होंने लुधियाना में एस सी धवन गवर्नमेंट कॉलेज फॉर बॉयज़ ज्वाइन किया, जहाँ से उन्हें निष्कासित कर दिया गया। निष्कासित होने के बाद, 1943 में, साहिर लाहौर चले गए जहाँ उन्होंने दयाल सिंह कॉलेज में प्रवेश लिया। यहां, उन्हें सफलता का पहला स्वाद मिला। उन्हें स्टूडेंट फेडरेशन का अध्यक्ष चुना गया था ।

■ साहिर का फिल्मों से जुड़ाव ■

सवेरा में उनके भड़काऊ लेखन ने पाकिस्तान सरकार को उनकी गिरफ्तारी का वारंट जारी किया। इसलिए, साहिर दिल्ली भाग आये , लेकिन कुछ महीनों के बाद, बॉम्बे (वर्तमान मुंबई) चले गए । साहिर ने 1948 में फिल्म “आजादी की राह पर” से गीतकार के रूप में अपनी शुरुआत की। फिल्म में उनके लिखे चार गीत थे। उनका पहला गीत “बडल रहि है ज़िन्दगी” था। हालांकि, यह 1951 का वर्ष था, जब उन्हें प्रसिद्धि और पहचान मिली । 1951 में रिलीज़ हुई दो फ़िल्मों में ऐसे गाने थे जो लोकप्रियता में आसमान छू गए और आज भी गुनगुनाए जाते हैं। पहले नौजवान से “थानादि हवयने लेहरा के आया” था। दूसरी फिल्म एक ऐतिहासिक फिल्म थी, जो गुरु दत्त – बाजी के निर्देशन में बनी थी। संयोग से दोनों फिल्मों में एस.डी.बर्मन का संगीत था।

★ साहिर का कार्य काल ★

उन्होंने 1945 में अपने छात्र जीवन रहते हुए ही अपनी पहली कविताओं की पुस्तक, तल्खियान [उच्चारण ताल-खी-यन] (कड़वाहट) प्रकाशित की। 1948 में साहिर ने शाहकार और सवेरा के लिए संपादक के रूप में काम शुरू किया। उन्होंने दिल्ली से शाहराह को भी प्रकाशित किया और “प्रीत की लाडी” / “पृथ्वीलाल” के लिए कुछ संपादकीय कार्य किए, जिनमें से सभी सफल रहे। वह प्रगतिशील लेखक संघ के सदस्य भी बने।

साहिर का गीतकार के रूप में लंबा और सफल करियर रहा और 50 और 60 के दशक में रोशन, मदन मोहन, खय्याम, रवि, एस डी बर्मन और एन। दत्ता सहित अधिकांश संगीत निर्देशकों के साथ काम किया। वे गुरुदत्त की टीम के अभिन्न अंग थे और एस। डी। बर्मन के साथ कई हिट फ़िल्में दीं। रोशन के साथ उनके काम ने कई पीरियड फिल्मों के लिए शानदार संगीत दिया, जिसमें ताजमहल भी शामिल था, जिसके लिए उन्होंने सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पहला फिल्मफेयर पुरस्कार जीता। 70 के दशक में, उनका अधिकांश काम यश चोपड़ा की फ़िल्मों के लिए था, लेकिन फ़िल्मों की गंभीरता निश्चित रूप से उनके लेखन की गुणवत्ता को कम नहीं करती थी और उन्होंने 1976 में कबाली के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकार के लिए अपना दूसरा फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार जीता। उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था 1971 में भारत सरकार।
25 अक्टूबर 1980 को, साहिर लुधियानवी का दिल का दौरा पड़ने से इंतकाल हो गया। उन्हें जुहू कब्रिस्तान में दफनाया गया था लेकिन 2010 में नए कब्रों के लिए जगह बनाने के लिए उनकी कब्र को तोड़ दिया गया था। उनका बिना शादी किये ही इंतकाल हो गया ।

 

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM