May 29, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

देहरादून राजधानी सहित पूरे उत्तराखण्ड के आसमान में दिखा सन हेलो

देहरादून राजधानी सहित पूरे उत्तराखण्ड के आसमान में दिखा सन हेलो

 

 

 सूर्य के चारों ओर एक लाल और नीले रंग का वलय, जिसे ’22 डिग्री गोलाकार प्रभामंडल’ के नाम से जाना जाता है, सूर्य प्रभामंडल, जिसे ’22 डिग्री प्रभामंडल’ के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकाशीय घटना है जो वातावरण में निलंबित लाखों हेक्सागोनल बर्फ क्रिस्टल में सूर्य के प्रकाश के अपवर्तन के कारण होती है । यह सूर्य या चंद्रमा के चारों ओर लगभग 22 डिग्री की त्रिज्या के साथ एक वलय का रूप लेता है।यह घटना उत्तराखंड में आज सुबह 11 बजे से दोपहर 12 बजे के बीच में देखा गया। सोशल मीडिया और बच्चों में यह घटना बहुत उत्साह के साथ देखी गई। देहरादून , ऋषिकेश पौड़ी ,श्रीनगर जैसे पर्वतीय नहरों के साथ गढ़वाल के अन्य जिले टिहरी उत्तरकाशी , समस्त गढ़वाल एवं कुमाऊँ मंडल उत्तराखंड में यह घटना देखी गयी।

यह घटना लोकप्रिय रूप से सूर्य के 22 डिग्री गोलाकार प्रभामंडल या कभी-कभी चंद्रमा (जिसे मून रिंग या विंटर हेलो भी कहा जाता है) के रूप में जाना जाता है, तब होता है जब सूर्य या चंद्रमा की किरणें सिरस के बादलों में मौजूद हेक्सागोनल बर्फ के क्रिस्टल के माध्यम से विक्षेपित / अपवर्तित हो जाती हैं। सबसे प्रसिद्ध प्रभामंडल प्रकारों में वृत्ताकार प्रभामंडल (जिसे ठीक से 22° प्रभामंडल कहा जाता है ), प्रकाश स्तंभ और सूर्य कुत्ते हैं , लेकिन कई अन्य पाए जाते हैं; कुछ काफी सामान्य हैं जबकि अन्य अत्यंत दुर्लभ हैं।ये सुरज से चारों ओर एक छल्ला जैस बना हुआ था। जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। लोग इसे जादुई अनुभव बता रहे हैं। सोशल मीडिया पर हैरानी से लोगों ने इसकी वीडियो और तस्वीरों को शेयर किया है। वैज्ञानिक भाषा में इसे ”सन हेलो” (Sun Halo) कहते हैं। सूर्य के चारों ओर एक चमकीला ‘हेलो’ सोमवार दोपहर के आसपास आसमान में देखा गया। स्थानीय लोगों ने आसमान में इंद्रधनुष के रंग की तरह दिखने वाले सतरंगी छल्ले के नजारे का लुत्फ उठाया। आइए जाने ये सन हालो क्या होता है और क्यों सूरज के चारों ओर ऐसे रिंग बनते हैं?

आखिर क्या होता है सन हेलो?
सूर्य के चारों ओर बनने वाले इस सतरंगी घेर को सन हेलो कहा जात है। हेलो प्रकाश द्वारा उत्पन्न ऑप्टिकल घटना के एक परिवार का नाम है। वैज्ञानिकों के मुताबिक ये एक आम प्रक्रिया है। यह तब होता है, जब सूरज धरती से 22 डिग्री के एंगल पर पहुंचता है तो आसमान में नमी की वजह से इस तरह का रिंग बन जाता है। आसमान के सिरस क्लाउड की वजह से ये दोपहर में ही दिखने लगते हैं।

 

क्या सन हेलो कोई अलौकिक घटना है?
कई लोगों सुर्य के चारों ओर ऐसा नजारा देखकर आश्चर्य हुआ कि क्या यह एक अलौकिक घटना थी। तो आपको बता दें कि ये कोई अलौकिक घटना नहीं है। सन हेलो, केंद्र में सूर्य के साथ एक आदर्श वलय की खगोलीय घटना है। जो एक आम बात है।

ठंडे देशों में यह एक बहुत ही सामान्य घटना है। लेकिन हमारे देशों में ये एक दुर्लभ घटना है, जो साल में कभी-कभार दिखाई देती है। इसकी भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। यह तब होता है जब सूरज के पास या उसके आस-पास आसमान में नमी से भरे सिरस बादल होते हैं और यह एक स्थानीय घटना है। इस लिए ये एक इलाके में ही दिखाई देते हैं।

.

.

चांद की रौशनी से भी बनता है हेलो
ये कोई जरूरी नहीं है कि हेलो सिर्फ सूर्य की रौशनी में ही बनता है। कई बार रात में चांद की रोशनी से भी हेलो बनता है। प्रक्रिया वही है, जब सूरज या चांद की रौशनी आसमान की नमी से टकराती है और धरती के 22 डिग्री के एंगल से टकराती है तो ये  हेलो बनता है। इसे मून रिंग या विंटर हेलो भी कहा जाता है। ये तब होता है जब सूर्य या चंद्रमा की किरणें सिरस के बादलों में मौजूद हेक्सागोनल बर्फ के क्रिस्टल के माध्यम से विक्षेपित होती हैं।

 

दक्षिणी ध्रुव पर एक प्रभामंडल प्रदर्शन देखा गया।
हेलो के लिए जिम्मेदार बर्फ के क्रिस्टल आमतौर पर ऊपरी क्षोभमंडल (5-10 किमी (3.1-6.2 मील)) में सिरस या सिरोस्ट्रेटस बादलों में निलंबित होते हैं , लेकिन ठंड के मौसम में वे जमीन के पास भी तैर सकते हैं, जिस स्थिति में उन्हें संदर्भित किया जाता है हीरे की धूल के रूप में । क्रिस्टल के विशेष आकार और अभिविन्यास देखे गए प्रभामंडल के प्रकार के लिए जिम्मेदार हैं। बर्फ के क्रिस्टल द्वारा प्रकाश परावर्तित और अपवर्तित होता है और फैलाव के कारण रंगों में विभाजित हो सकता है । क्रिस्टल प्रिज्म और दर्पण की तरह व्यवहार करते हैंउनके चेहरों के बीच प्रकाश को अपवर्तित और परावर्तित करना, विशेष दिशाओं में प्रकाश के शाफ्ट भेजना। मौसम विज्ञान के भाग के रूप में हेलोस जैसी वायुमंडलीय ऑप्टिकल घटना का उपयोग किया गया था, जो मौसम विज्ञान के विकसित होने से पहले मौसम के पूर्वानुमान का एक अनुभवजन्य साधन था। वे अक्सर संकेत देते हैं कि अगले 24 घंटों के भीतर बारिश होगी, क्योंकि सिरोस्ट्रेटस बादल जो उन्हें पैदा करते हैं, वे एक निकटवर्ती ललाट प्रणाली का संकेत दे सकते हैं।

अन्य सामान्य प्रकार की ऑप्टिकल घटनाएं जिनमें बर्फ के क्रिस्टल के बजाय पानी की बूंदों को शामिल किया जाता है, उनमें महिमा और इंद्रधनुष शामिल हैं ।

 

 

 

आखिर क्या होता है सन हेलो?
सूर्य के चारों ओर बनने वाले इस सतरंगी घेर को सन हालो कहा जात है। हेलो प्रकाश द्वारा उत्पन्न ऑप्टिकल घटना के एक परिवार का नाम है। वैज्ञानिकों के मुताबिक ये एक आम प्रक्रिया है। यह तब होता है, जब सूरज धरती से 22 डिग्री के एंगल पर पहुंचता है तो आसमान में नमी की वजह से इस तरह का रिंग बन जाता है। आसमान के सिरस क्लाउड की वजह से ये दोपहर में ही दिखने लगते हैं।

 

क्या सन हेलो कोई अलौकिक घटना है?
कई लोगों सुर्य के चारों ओर ऐसा नजारा देखकर आश्चर्य हुआ कि क्या यह एक अलौकिक घटना थी। तो आपको बता दें कि ये कोई अलौकिक घटना नहीं है। सन हेलो , केंद्र में सूर्य के साथ एक आदर्श वलय की खगोलीय घटना है। जो एक आम बात है।

ठंडे देशों में यह एक बहुत ही सामान्य घटना है। लेकिन हमारे देशों में ये एक दुर्लभ घटना है, जो साल में कभी-कभार दिखाई देती है। इसकी भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। यह तब होता है जब सूरज के पास या उसके आस-पास आसमान में नमी से भरे सिरस बादल होते हैं और यह एक स्थानीय घटना है। इस लिए ये एक इलाके में ही दिखाई देते हैं।

.

.

चांद की रौशनी से भी बनता है हेलो
ये कोई जरूरी नहीं है कि हेलो सिर्फ सूर्य की रौशनी में ही बनता है। कई बार रात में चांद की रोशनी से भी हालो बनता है। प्रक्रिया वही है, जब सूरज या चांद की रौशनी आसमान की नमी से टकराती है और धरती के 22 डिग्री के एंगल से टकराती है तो ये हेलो बनता है। इसे मून रिंग या विंटर हेलो भी कहा जाता है। ये तब होता है जब सूर्य या चंद्रमा की किरणें सिरस के बादलों में मौजूद हेक्सागोनल बर्फ के क्रिस्टल के माध्यम से विक्षेपित होती हैं।

 

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM