November 30, 2023

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

धामी मंत्रिमंडल की बैठक में 30 प्रस्तावों पर मुहर लगी है. कैबिनेट बैठक में मसूरी को तहसील बनाये जाने का फैसला किया गया है. इसके साथ ही मसूरी एसडीएम की पावर भी बढ़ाई गई है. साथ ही कैबिनेट बैठक में पीपीएस ऑफिसर के ढांचे में भी परिवर्तन किया गया है.अब तक मसूरी के आसपास के गांवों को हर काम के लिए देहरादून या धनोल्टी भागना पड़ता था, लेकिन अब मसूरी के अलग तहसील बनने से तहसील स्तर की हर सुविधाएं उन्हें पास में ही मिल जाएंगी। तहसीलदार, नायब तहसीलदार, पटवारी मसूरी से बैठने से लोगों की खाता-खतौनी से संबंधित और आय, जाति आदि प्रमाणपत्रों को बनाने में सहूलियत होगी।
राजधानी देहरादून से मसूरी की दूरी 35 किमी है. यह समुद्र तल से 6500 फीट की ऊंचाई पर बसा साल भर ठंडा रहने वाला पहाड़ी क़स्बा है. बताते हैं कि यहाँ बड़े पैमाने पर उगने वाले मंसूर के पौधे के कारण इसे पहले मन्सूरी फिर मसूरी कहा जाने लगा

 

मसूरी को लंबे समय से पहाड़ों की रानी के रूप में जाना जाता है। मसूरी नाम अक्सर मंसूर की व्युत्पत्ति से लिया जाता है , जो एक झाड़ी है जो इस क्षेत्र का मूल निवासी है। इस शहर को अक्सर भारतीयों द्वारा मंसूरी कहा जाता है ।

1803 में उमर सिंह थापा के नेतृत्व में गोरखाओं ने गढ़वाल और देहरा पर विजय प्राप्त की, जिससे मसूरी की स्थापना हुई। 1 नवंबर 1814 को गोरखाओं और अंग्रेजों के बीच युद्ध छिड़ गया। वर्ष 1815 तक गोरखाओं द्वारा देहरादून और मसूरी को खाली कर दिया गया और 1819 तक इन्हें सहारनपुर जिले में मिला लिया गया।

एक रिसॉर्ट के रूप में मसूरी की स्थापना 1825 में एक ब्रिटिश सैन्य अधिकारी कैप्टन यंग द्वारा की गई थी। देहरादून के स्थानीय राजस्व अधीक्षक श्री शोर के साथ, उन्होंने वर्तमान स्थल का पता लगाया और संयुक्त रूप से एक शूटिंग लॉज का निर्माण किया।] ईस्ट इंडिया कंपनी के लेफ्टिनेंट फ्रेडरिक यंग गेम की शूटिंग के लिए मसूरी आए थे। उन्होंने कैमल्स बैक रोड पर एक शिकार लॉज (शूटिंग बॉक्स) बनाया, और 1823 में दून के मजिस्ट्रेट बने। उन्होंने पहली गोरखा रेजिमेंट की स्थापना की और घाटी में पहला आलू लगाया। मसूरी में उनका कार्यकाल 1844 में समाप्त हुआ,

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM