May 29, 2024

Ajayshri Times

सामाजिक सरोकारों की एक पहल

 

देहरादून में देश की पांचवीं साइंस सिटी बनेगी

उत्तराखंड की अस्थाई राजधानी देहरादून में राज्य की पह​ली साइंस सिटी बनेगी। उत्तराखंड विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद यूकॉस्ट और राष्ट्रीय विज् के बीच कोलकाता​ में समझौता हुआ है। दून में 25 एकड़ में 173 करोड़ की लागत से इसका निर्माण किया

देहरादून में देश की पांचवीं साइंस सिटी बनेगी और इसका निर्माण देहरादून स्थित झाझरा में किया जाएगा। यहां पर अभी विज्ञान धाम के रूप में रीजनल साइंस सेंटर स्थापित है। यूकॉस्ट के महानिदेशक प्रो दुर्गेश पंत ने साइंस सिटी के लिए सीएम पुष्कर सिंह धामी का आभार जताया है। 173 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए धामी सरकार पहली किश्त 12 करोड़ 72 लाख रुपए धनराशि जारी करेगी। साइंस सिटी में उत्तराखंड की झलक दिखेगी। जिसमें म्यूजियम, इंटरप्रेटेशन सेंटर, कनवेंशन सेंटर जैसी सुविधाएं रहेंगी।

देश की 5 वीं साइंस सिटीउत्तराखंड की अस्थाई राजधानी देहरादून में राज्य की पह​ली साइंस सिटी बनेगी। उत्तराखंड विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद यूकॉस्ट और राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद एनसीएसएम के बीच कोलकाता​ में समझौता हुआ है। दून में 25 एकड़ में 173 करोड़ की लागत से इसका निर्माण किया जाएगा।
उत्तराखंड की अस्थाई राजधानी देहरादून में राज्य की पह​ली साइंस सिटी बनेगी। उत्तराखंड विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद यूकॉस्ट और राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद एनसीएसएम के बीच कोलकाता​ में समझौता हुआ है। दून में 25 एकड़ में 173 करोड़ की लागत से इसका निर्माण किया जाएगा।

देहरादून में देश की पांचवीं साइंस सिटी बनेगी और इसका निर्माण देहरादून स्थित झाझरा में किया जाएगा। यहां पर अभी विज्ञान धाम के रूप में रीजनल साइंस सेंटर स्थापित है। यूकॉस्ट के महानिदेशक प्रो दुर्गेश पंत ने साइंस सिटी के लिए सीएम पुष्कर सिंह धामी का आभार जताया है। 173 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए धामी सरकार पहली किश्त 12 करोड़ 72 लाख रुपए धनराशि जारी करेगी। साइंस सिटी में उत्तराखंड की झलक दिखेगी। जिसमें म्यूजियम, इंटरप्रेटेशन सेंटर, कनवेंशन सेंटर जैसी सुविधाएं रहेंगी।

देश की 5 वीं साइंस सिटी बनेगी

उत्तराखंड के देहरादून में प्रदेश का पहला साइंस सिटी बनने जा रहा है। जबकि देश की 5 वीं साइंस सिटी बनेगी।अब तक देश में पश्चिम बंगाल (कोलकाता), असम (गुवाहाटी), गुजरात (अहमदाबाद), पंजाब (कपूरथला) में साइंस सिटी है। साइंस सिटी में विज्ञान के तमाम माडल के माध्यम से पर्यावरणीय व भौगोलिक घटनाओं को बताया जाता है। जिससे छात्रों समेत हर वर्ग के नागरिकों को विज्ञान की बारीकियों को समझने में मदद मिलेगी और इनकी रुचि भी बढ़ेगी। इसके अलावा साइंस सिटी में प्रदेश की संस्कृति व उनके वैज्ञानिक महत्व को भी रेखांकित किया जाएगा। केंद्र सरकार ने करीब चार साल पहले साइंस सिटी की मंजूरी प्रदान की थी, लेकिन अब सीएम धामी ने इस प्रोजेक्ट को धरातल पर लाने के लिए तेजी दिखाई है।
देहरादून में देश की पांचवीं साइंस सिटी बनेगी और इसका निर्माण देहरादून स्थित झाझरा में किया जाएगा। यहां पर अभी विज्ञान धाम के रूप में रीजनल साइंस सेंटर स्थापित है। यूकॉस्ट के महानिदेशक प्रो दुर्गेश पंत ने साइंस सिटी के लिए सीएम पुष्कर सिंह धामी का आभार जताया है। 173 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए धामी सरकार पहली किश्त 12 करोड़ 72 लाख रुपए धनराशि जारी करेगी। साइंस सिटी में उत्तराखंड की झलक दिखेगी। जिसमें म्यूजियम, इंटरप्रेटेशन सेंटर, कनवेंशन सेंटर जैसी सुविधाएं रहेंगी।

देश की 5 वीं साइंस सिटी बनेगी

उत्तराखंड के देहरादून में प्रदेश का पहला साइंस सिटी बनने जा रहा है। जबकि देश की 5 वीं साइंस सिटी बनेगी।अब तक देश में पश्चिम बंगाल (कोलकाता), असम (गुवाहाटी), गुजरात (अहमदाबाद), पंजाब (कपूरथला) में साइंस सिटी है। साइंस सिटी में विज्ञान के तमाम माडल के माध्यम से पर्यावरणीय व भौगोलिक घटनाओं को बताया जाता है। जिससे छात्रों समेत हर वर्ग के नागरिकों को विज्ञान की बारीकियों को समझने में मदद मिलेगी और इनकी रुचि भी बढ़ेगी। इसके अलावा साइंस सिटी में प्रदेश की संस्कृति व उनके वैज्ञानिक महत्व को भी रेखांकित किया जाएगा। केंद्र सरकार ने करीब चार साल पहले साइंस सिटी की मंजूरी प्रदान की थी, लेकिन अब सीएम धामी ने इस प्रोजेक्ट को धरातल पर लाने के लिए तेजी दिखाई है। बनेगी

उत्तराखंड के देहरादून में प्रदेश का पहला साइंस सिटी बनने जा रहा है। जबकि देश की 5 वीं साइंस सिटी बनेगी।अब तक देश में पश्चिम बंगाल (कोलकाता), असम (गुवाहाटी), गुजरात (अहमदाबाद), पंजाब (कपूरथला) में साइंस सिटी है। साइंस सिटी में विज्ञान के तमाम माडल के माध्यम से पर्यावरणीय व भौगोलिक घटनाओं को बताया जाता है। जिससे छात्रों समेत हर वर्ग के नागरिकों को विज्ञान की बारीकियों को समझने में मदद मिलेगी और इनकी रुचि भी बढ़ेगी। इसके अलावा साइंस सिटी में प्रदेश की संस्कृति व उनके वैज्ञानिक महत्व को भी रेखांकित किया जाएगा। केंद्र सरकार ने करीब चार साल पहले साइंस सिटी की मंजूरी प्रदान की थी, लेकिन अब सीएम धामी ने इस प्रोजेक्ट को धरातल पर लाने के लिए तेजी दिखाई है।

Please follow and like us:
Pin Share

About The Author

You may have missed

Enjoy this blog? Please spread the word :)

YOUTUBE
INSTAGRAM